Basic Electronics Transformer

Trasnformer and Mutual Induction ट्रांसफार्मर म्यूचयल इंडक्शन

transformer,ट्रांसफार्मर म्यूचयल इंडक्शन

ट्रांसफार्मर  यह नाम तो हर कोई जनता है चाहे वह शहर में रहता हो या फिर गॉव  में। बेसक वह इसको बिजली को घटने या बढ़ाने वाले यन्त्र के नाम से जनता हो। ट्रांसफार्मर के  अविष्कार ने इलेक्ट्रॉनिक्स की दुनिया ही बदल  कर रख दी है।   तो आइये जानते है ट्रांसफॉमर के बारे में।

Transformer ही एक ऐसा device  है को करंट को बिना किसी physical attachment के एक स्थान से दूसरे स्थान तक भेजने का काम करता है।  और इसके आलावा करंट को कम या ज्यादा करने में अहम भूमिका निभाता है

जैसा की मैंने आपको अपनी पिछली पोस्ट में आपको  Coil के बारे में बताया था। ट्रांसफार्मर क्वाइल का ही रूप है लेकिन इसमें दो या अधिक Coil  का इस्तमाल होता है।

मै  आपको ज्यादा किताबी भाषा का इस्तेमाल न करके सीधे सादे शब्दों में बताने की कोसिस करूँगा ताकि आपको आसानी से समझ में आये। ट्रांस फार्मर म्यूचयल इंडक्शन के सिद्धांत पर काम करता है। मान लीजिये एक ट्रांस फार्मर है जिसमे चार तार है दो तार एक तरफ और दो तार दूसरी तरफ आप एक तरफ से 220 AC वोल्ट देते है और दूसरी  तरफ से आपको 12 AC वोल्ट मिलते है।  आखिर यह होता कैसे है।  जबकि ट्रांसफार्मर में तार और लोहे के कोर के अलावा कुछ नहीं होता।  फिर यह कैसे  करंट को  कम कर देता है।  यही तो खासियत होती है ट्रांस फार्मर में।

क्वाइल में दो तरह के गुण होते है। – There are two types of properties in the coil

  • पहला →  की जब उसमे Ac करंट दी जाती है तो उसके चारो तरफ एक मैगनेटिक फील्ड या चुंबकीय क्षेत्र  बन जाता है जिसको Electromotive Force कहते है।
  • दूसरा → जब किसी क्वाइल को magnetic field में लाया जाता है तो क्वाइल के इलेक्ट्रॉन्स मूव करने लगते है जिसके वजह से क्वाइल के सिरो से ac करंट बहने लगता है।

क्वाइल के इसी गुण का इस्तेमाल छोटे से लेकर बड़े ट्रांस फार्मर बनाने के लिए होता है।

आशा है की आपको समझ में आ गया होगा।  आप चाहे तो एक प्रयोग आप कर के देख सकते है।
किसी प्रकार के इन्सुलेटेड  तार को किसी भी आधार या पेंसिल पर लपेट दे और उसके दोनों सिरो पर इंसुलेशन हटाकर एक छोटी LED (कम वाल्ट ) जोड़ दे , अब चुम्बक को क्वाइल के ऊपर आगे पीछे हिलाये तो एलईडी जलने लगेगी।

ट्रांसफार्मर – Transformer

  • ट्रांस फार्मर में तो कम से कम दो क्वाइल का इस्तेमाल किया जाता है जिनको वाइंडिंग कहते है।
  • ट्रांस फार्मर में जिस वाइंडिंग पर करंट देते है उसको प्राइमरी वाइंडिंग कहते है
  • और जिससे करंट प्राप्त किया जाता है उसको सेकंडरी वाइंडिंग कहते है।

ट्रांसफार्मर के प्रकार – Types of Transformers

स्टेप डाउन ट्रांसफार्मर → Step down transformer →

इस प्रकार के Step-Down Transformer  का इस्तेमाल ज्यादा वोल्ट को कम करने के लिए होता है। जैसे : → power house Transformer, Laptop Charger Transformer, Mobile Phone Charger Transformer ect.

स्टेप अप ट्रांसफार्मर  → Step-up Transformer →

कम वोल्ट को बढ़ाने  के लिए Step-Down Transformer का इस्तेमाल होता है। जैसे → Inverter Transformer, Ups Transformer, Stabilizer Transformer etc.

ऑटो ट्रांसफार्मर       → Auto Transformer →

इस प्रकार  के ट्रांसफार्मर का इस्तेमाल आवश्यकता के अनुसार अपने आप कम वोल्ट को ज्यादा या ज्यादा वोल्ट को कम  करने के लिए होता है जैसे  →
Crt Monitor EHT, Ups, Inverter, Auto Transformer  ect

आगे पढ़िए जल्द : ▼

Sending
User Review
0 (0 votes)

About the author

chip-level

I develop websites and content for websites related to high tech from around the world. See more pages and content about technology such as Computer and other IT developments around the world. You can follow the other websites as well and search this website for more information on mobile phones and other any components.

1 Comment

Leave a Comment