Uncategorized

Guru Nanak Dev Ji ke Dohe Hindi and Punjabi

Guru Nanak Dev Ji ke Dohe Hindi and Punjabi

Guru Nanak Dev Ji 

(गुरु नानक देव के दोहे पंजाबी  )

एक ओंकार सतिनाम, करता पुरखु निरभऊ। 
निरबैर, अकाल मूरति, अजूनी, सैभं गुर प्रसादि ।। 
हुकमी उत्तम नीचु हुकमि लिखित दुखसुख पाई अहि। 
इकना हुकमी बक्शीस इकि हुकमी सदा भवाई अहि ॥
सालाही सालाही एती सुरति न पाइया।
नदिआ अते वाह पवहि समुंदि न जाणी अहि ॥
पवणु गुरु पानी पिता माता धरति महतु।
दिवस रात दुई दाई दाइआ खेले सगलु जगतु ॥

Sikh Guru Nanak Dev Ke Dohe In Hindi 

हरि बिनु तेरो को न सहाई।
काकी मात-पिता सुत बनिता, को काहू को भाई॥
धनु धरनी अरु संपति सगरी जो मानिओ अपनाई।
तन छूटै कुछ संग न चालै, कहा ताहि लपटाई॥
दीन दयाल सदा दु:ख-भंजन, ता सिउ रुचि न बढाई।
नानक कहत जगत सभ मिथिआ, ज्यों सुपना रैनाई॥
 जगत में झूठी देखी प्रीत।
अपने ही सुखसों सब लागे, क्या दारा क्या मीत॥
मेरो मेरो सभी कहत हैं, हित सों बाध्यौ चीत।
अंतकाल संगी नहिं कोऊ, यह अचरज की रीत॥
मन मूरख अजहूँ नहिं समुझत, सिख दै हारयो नीत।
नानक भव-जल-पार परै जो गावै प्रभु के गीत॥
gurbani in Hindi, Gurbani MP3, Guruwani, Guru gobind, nanak shah fakir

अगर आपके पास कोई ज्ञानवर्धक जानकारी है जिससे आप लोगो से बाँटना चाहते है तो आप हमें मेल कर सकते है यदि पोस्ट अच्छी हुई तो उसको जरूर Publish किया जायेगा , आप किसी भी भाषा (hindi, english, marathi ) में भेज सकते है। उसे आपकी Photo के साथ प्रकशित किया जायेगा। Email Id : [email protected]

Sending
User Review
0 (0 votes)

About the author

chip-level

I develop websites and content for websites related to high tech from around the world. See more pages and content about technology such as Computer and other IT developments around the world. You can follow the other websites as well and search this website for more information on mobile phones and other any components.

Leave a Comment