ट्रांजिस्टर Transistor

Transistor ट्रांजिस्टर का नाम आपने बहुत सुना होगा ट्रांजिस्टर के आने से इलेक्ट्रॉनिक्स क्षेत्र में बहुत बड़ी क्रांति ला दी।
ट्रांजिस्टर एक बहुत ही  साधारण सा दिखाई देने वाला कॉम्पोनेन्ट होता है लेकिन इसके काम बहुत बड़े है।  अगर ट्रांजिस्टर नहीं होते तो शायद आज कंप्यूटर की स्पीड इतनी नहीं होती जितनी अब है।

ट्रांजिस्टर का इस्तेमाल सर्किट में बहुत से कार्यो  को करने के लिए किया जाता  लेकिन इसका सबसे ज्यादा उपयोग एम्प्लीफिकेशन के लिए होता है।  कहने का मतलब किसी भी सिग्नल की शक्ति को बढ़ाने के लिए होता है।

Transistor ट्रांजिस्टर सेमीकंडक्टर पदार्थो से बनाया जाता है।  सिलिकॉन और जेर्मेनियम।


ट्रांजिस्टर के तीन सिरे होते है।  जिनको  बेस, कलेक्टर और एमीटर कहते है।  ट्रांजिस्टर के कई प्रकार होते है और सबका काम अलग अलग होता है। Transistor

संरचना के अनुसार ट्रांजिस्टर दो  टाइप के होते है Transistor

npn टाइप ट्रांजिस्टर →  इस प्रकार के ट्रांजिस्टर में प टाइप क्रिस्टल के दोनों तरफ न टाइप क्रिस्टल जोड़ा जाता है।  देखे चित्र ▼

इस तरह दो जोड़ बनते है जिनको जंक्शन कहते है
पहला नप
दूसरा पण
 दोनों जंक्शन में प कॉमन हो जाता है इसलिए इसको नपं ट्रांजिस्टर कहते है
इसमें प बेस होता है छोटा न एमीटर और दूसरा बड़ा न कलेक्टर होता है इसमें करंट कलटर से एमीटर की और बहता है
इसमें बेस एक कंट्रोलर की तरह काम करता है बेस पर जितना सिग्नल दिए  जाते उसके अनुसार करंट कलेक्टर से अमीटर की तरफ बहने लगता है। अच्छी तरह समझने के लिए एक उदाहरण लेते है

आपके घर या स्कूल ऑफिस हर जगह पानी नल होता है।  जिसके लिए ऊपर छत पर टंकी रखी होती है और पाईप के द्वारा पानी को नीचे लाया जाता है। जिसमे से पानी बहता है और बहता ही रहेगा जब तक टंकी पूरी खाली नहीं हो जाती इसके लिए पाइप पर टोटी लगाई जाती है जिसको बंद कर देने पर पानी नहीं बहता जब आपको जरुरत  होती है तब आप टोटी को खोल कर पानी ले लेते है फिर जरुरत नहीं होने पर बंद कर देते है साथ  ही आपको कम पानी चाहिए कम खोलते है और ज्यादा तेज़ी से पानी बहने के लिए ज्यादा या पूरा खोल देते है कहने का मतलब यह है जितनी हमें जरुरत होती है और जिस गति से चाहते है टोटी को उसी के अनुसार घुमाकर पानी ले लेते है। Transistor
ठीक इसी प्रकार ट्रांजिस्टर भी काम करता है और बेस उसको नियंत्रित करता है।  मुझे लगता है आपको अच्छे से समझ आ गया होगा।





पंप टाइप ट्रांजिस्टर →

transistor theory in hindi, ट्रांजिस्टर के प्रकार, डायोड के प्रकार, transistor in hindi pdf, ट्रांजिस्टर के उपयोग, डायोड का कार्य, इलेक्ट्रॉनिक उपकरण, आई सी Transistor


Read Also :
Computer Virus को बिना Antivirus Software के कैसे हटाये
Latest Price List - Nehru Place - Wazir pur Computer Market
Disk cleanup utilities का उपयोग कैसे करे
Defragmentation के द्वारा बढ़ाये अपने Computer की Speed

Micro controller Related Problems in laptop
laptop battery basic knowledge repair tips लैपटॉप में बैटरी विभाग
Laptop Repair - Battery charging problems लैपटॉप में बैटरी सर्किट
Laptop Repair - Laptop No Display क्लॉक जनरेटर आईसी
Laptop Repair Tips - temperature sense circuit लैपटॉप टेम्प्रेचर सेंस सेक्शन
insert proper boot media or select proper boot device error
प्रतीक चिन्ह बनाने के Keyboard Short cut Keys 



loading...
Check your domain ranking
..

कोई टिप्पणी नहीं

☻यदि आपकी कोई कंप्यूटर लैपटॉप या मोबाइल से सम्बंधित कोई समस्या है। तो आप मुझे कमेंट कर सकते है।
☻समस्या का जल्दी निवारण किया जायेगा।