Guru Nanak Dev Ji ke Dohe Hindi and Punjabi

Guru Nanak Dev Ji ke Dohe Hindi and Punjabi

Guru Nanak Dev Ji 

(गुरु नानक देव के दोहे पंजाबी  )

एक ओंकार सतिनाम, करता पुरखु निरभऊ। 
निरबैर, अकाल मूरति, अजूनी, सैभं गुर प्रसादि ।। 

हुकमी उत्तम नीचु हुकमि लिखित दुखसुख पाई अहि। 
इकना हुकमी बक्शीस इकि हुकमी सदा भवाई अहि ॥

सालाही सालाही एती सुरति न पाइया।
नदिआ अते वाह पवहि समुंदि न जाणी अहि ॥

पवणु गुरु पानी पिता माता धरति महतु।
दिवस रात दुई दाई दाइआ खेले सगलु जगतु ॥


Sikh Guru Nanak Dev Ke Dohe In Hindi 

हरि बिनु तेरो को न सहाई।
काकी मात-पिता सुत बनिता, को काहू को भाई॥

धनु धरनी अरु संपति सगरी जो मानिओ अपनाई।
तन छूटै कुछ संग न चालै, कहा ताहि लपटाई॥

दीन दयाल सदा दु:ख-भंजन, ता सिउ रुचि न बढाई।
नानक कहत जगत सभ मिथिआ, ज्यों सुपना रैनाई॥


 जगत में झूठी देखी प्रीत।
अपने ही सुखसों सब लागे, क्या दारा क्या मीत॥

मेरो मेरो सभी कहत हैं, हित सों बाध्यौ चीत।
अंतकाल संगी नहिं कोऊ, यह अचरज की रीत॥

मन मूरख अजहूँ नहिं समुझत, सिख दै हारयो नीत।
नानक भव-जल-पार परै जो गावै प्रभु के गीत॥

gurbani in Hindi, Gurbani MP3, Guruwani, Guru gobind, nanak shah fakir


अगर आपके पास कोई ज्ञानवर्धक जानकारी है जिससे आप लोगो से बाँटना चाहते है तो आप हमें मेल कर सकते है यदि पोस्ट अच्छी हुई तो उसको जरूर Publish किया जायेगा , आप किसी भी भाषा (hindi, english, marathi ) में भेज सकते है। उसे आपकी Photo के साथ प्रकशित किया जायेगा। Email Id : chiplevelhelp@gmail.com
loading...
Check your domain ranking
..

कोई टिप्पणी नहीं

☻यदि आपकी कोई कंप्यूटर लैपटॉप या मोबाइल से सम्बंधित कोई समस्या है। तो आप मुझे कमेंट कर सकते है।
☻समस्या का जल्दी निवारण किया जायेगा।